Archive for the ‘કોઈ નઝમ ૨૫’ Tag

કોઈ નઝમ ૨૫

प्यार शब्दो का मोहताज नहीं होता,
दिल में हर किसी का राज नहीं होता,
क्यों इंतज़ार करते है उनका हर रोज
क्या साल का हर दिन प्यार का हक़दार नहीं होता ?