Archive for the ‘કોઈ નઝમ ૫૦’ Tag

કોઈ નઝમ ૫૦

फ़रिश्ते ही होंगे जिनका इश्क मुकम्मल होता है ,

हमने तो यहाँ इंसानों को बस बर्बाद होते देखा है !

ये दुनिया इसलिए बुरी नही के यहाँ बुरे लोग ज्यादा है।

बल्कि इसलिए बुरी है कि यहाँ अच्छे लोग खामोश है।।